Home / G-H / सर्दियांं में खाएं ये फल और सब्‍जियां, रहेगी बीमारी दूूूर

सर्दियांं में खाएं ये फल और सब्‍जियां, रहेगी बीमारी दूूूर

सर्दी की तेज ठंड ना केवल आपके रहन सहन,

परिधान को प्रभावित करती है, बल्कि यह आपके हीटर का बिल भी बढ़ा देती है। आपके शरीर में भी इस समय एनर्जी, पाचन और खाने से जुड़े कई बदलाव होते हैं।

जैसा कि आप सबको पता है कि सर्दियाँ आ रही हैं ऐसे में ज़रूरी है आप भी मौसम के इस मिजाज के अनुसार बदलें और अपने खाने में सर्दी की खास सब्जियाँ खाएं। इससे ना केवल शरीर को पोषक तत्व मिलेंगे बल्कि शरीर सुरक्षित भी रहेगा।

सर्दी में आने वाले ऐसे कई फल और सब्जियाँ हैं जिनमें पोषक तत्व भरपूर होते हैं इन्हें आप अपने खाने में शामिल कर सकते हैं।

पालक – टमाटर की तरह ही पालक में भी एंटी-ओक्सीडेंट्स होते हैं जो कि फ्री रेडिकल्स से लड़ते हैं। इसमें भरपूर मात्रा में पोटेशियम होता है जिससे न्यूरोन के सिगनल्स की स्पीड बढ़ती है और आपका दिमाग ज़्यादा तेज होता है। यह विटामिन सी से भी भरा होता है जो कि शरीर को इन्फेक्शन से लड़ने में मदद करता है और शरीर में एंटी-ओक्सीडेंट्स का लेवल बढ़ाता है।

SSOHM Diet

अनार – अनार में एंटी-ओक्सीडेंट्स की अच्छी ख़ासी मात्रा होती है (अन्य फलों के जूस से ज़्यादा) इसके रोज़ाना एक कप का सेवन फ्री रेडिकल्स को बैड एलडीएल कोलेस्ट्रॉल के ऑक्सीकरण से दूर रखता है।

स्वीट पोटेटो  – स्वीट पोटेटो में रोज़ाना का 65 प्रतिशत विटामिन सी होता है और साथ ही इसका ग्लेसिमिक इंडेक्स 17 ही होता है। यह फाइबर से भरा होता है, यह इंसुलिन को बढ़ाकर ब्लड शुगर को नियंत्रित करता है, यह पेट के मोटापे को भी कम करता है।

सेव – यह सर्दियों का एक बेहतरीन फल है। यूएसडीए के फूड न्यूट्रियंट डेटाबेस के अनुसार एक माध्यम सेव में 95 कैलोरी होती हैं, विटामिन सी की अच्छी ख़ासी मात्रा होती है और 4 ग्राम फाइबर भी होता है। यह फल आपके दिल को भी दुरस्त करता है।

साइट्रस (खट्टे फल)  – नींबू, संतरा और अंगूर जैसे फल भी सर्दियों में खाये जा सकते हैं। इन फलों में विटामिन सी भरपूर होता है, एक माध्यम संतरा में 100 प्रतिशत रोज़ाना की डोज़ मिल जाती है।

बैंगन – बैंगन में पोटेशियम जैसे मिनरल्स होते हैं, जो कि मेटाबोलिज़्म के लिए अच्छा है, और मैग्निशियम मसल्स को रिलेक्स करता है और नींद अच्छी आती है। यदि आपके शरीर में विटामिन बी और के की कमी है तो यह आपके लिए है। इसमें नसुनीन होता है जो कि एक शक्तिशाली फ़िटेनट्रिएंट है और एंटी-ऑक्सिडेंट होते हैं, जो कि उम्र के असर को कम करते हैं।

belly-diet-plan-ssohm

You can contact us on 92 66 522 522 or email us on – report@ssohm.com

About SSOHM

SSOHM is a health center established in 1990 by Dr. R.K Aggarwal for relieving all the sufferers in the world from there disease naturally. From last 23 years SSOHM is successfully providing homoeopathy treatment for all kind of diseases.. SSOHM periodically arrange free health campaigns for sufferers all over the India. Now we are also providing Free Online Consultation by a team of specialized doctors representing SSOHM in the web world.

Check Also

Miserable Truth behind Ultrasound Reports

Know the Miserable Truth behind Ultrasound Reports

With this article today we are going to share the Miserable Truth behind Ultrasound Reports, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *