Home / C-D / जाने क्यों है ! नवरात्री का व्रत या उपवास आपकी सेहत के लिए ख़ास

जाने क्यों है ! नवरात्री का व्रत या उपवास आपकी सेहत के लिए ख़ास

हेलो दोस्तों

आप सभी को चैत्र नवरात्रि की ढ़ेरों शुभकामनाएं। आज की टिप्स आपके लिए बहुत ख़ास है क्योंकि ये भक्ति का माहौल है और जब बात भक्ति की हो तो व्रत या उपवास शब्द का आना भी स्वभाविक है।

नवरात्रे में देवी दुर्गा की पूजा उपासना हिन्दू धर्म के लोग पूरे 9 दिन करते है और पूजा पाठ के साथ साथ कठोर भक्ति के रूप में पूरे 9 दिन के व्रत का संकल्प भी लेते हैं।

तो आज मैं आपको इसी वृत या उपवास का महत्व बताने जा रहा हूँ क्योंकि व्रत या उपवास का महत्व धार्मिक होने के साथ-साथ शरीर के लिए भी लाभकारी होता है।

व्रत या उपवास के फायदे

व्रत और उपवास का महत्व लोग आज ही नहीं बल्कि आदिकाल से जानते है, तब से लोग किसी ना किसी धर्म या दिन के बहाने उपवास रख रहें हैं।

लेकिन व्रत या उपवास का असल महत्व हमारे शरीर से जुड़ा है, शरीर विज्ञान से जुड़ा है।

  • व्रत या उपवास करने से शरीर में जैव रासायनिक क्रियाएँ (Biochemical functions शुरू हो जाती है। जिससे रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि होती है और विषैले पदार्थ शरीर से तेजी से बाहर निकलने लगते है।
  • व्रत करने से आपके कुछ ना खाने से हानिकारक फ्री रेडिकल्स का बनना बंद हो जाते हैं और शरीर की हीलिंग क्रिया सुधर जाती है। जिससे आयरन, कैल्शियम, जिंक आदि तत्वों का अवशोषण ( absorption ) तेज हो जाता है।
  • उपवास करने से हीमोग्लोबिन ( Hemoglobin ) सही रहता है और कैल्शियम की कमी नहीं होती जिससे जोड़ों के दर्द में कमी आती है और हड्डियो भी मजबूत रहती हैं।
  • व्रत या उपवास में 12 घंटे कुछ ना खाने से किटोसिस ( Ketosis ) नामक प्रक्रिया शुरू हो जाती है जिसमे हमारे शरीर की कोशकाएं ( Cells ) शरीर में मौजूद फैट यानि चर्बी को गलाकर इसके माध्यम से ऊर्जा लेना शुरू कर देती है । यह ऊर्जा भोजन से मिलने वाली ऊर्जा की अपेक्षा दिमाग और शरीर दोनों के लिए अधिक फायदेमंद होती है। इससे शरीर से चर्बी कम होकर मोटापा कम होता है।
  • व्रत या उपवास करने से शरीर को साफ सफाई का पर्याप्त समय मिलता है। ऑटोफैजी की प्रक्रिया तेज होती है जिसके फलस्वरूप शारीरिक अंगों की कार्यक्षमता में सुधार होता है।
  • व्रत या उपवास करने से शरीर में कुछ अच्छे बेक्टिरिया की वृद्धि होती है जो सिर्फ व्रत उपवास करने से ही उत्पन्न होते है। इसी तरह कुछ विशेष प्रकार के हानिकारक बेक्टिरिया के नष्ट होने की प्रक्रिया भी सिर्फ व्रत उपवास के समय ही होती है।
  • व्रत या उपवास करने से शरीर प्रकृति के अनुसार ढलने लगता है। स्वाभाविक रूप से भूख प्यास आदि लगने लगते है। आम दिनों में जबरदस्ती खाना खाने पर पाचन क्रिया भी खराब हो जाती है। जिसका परिणाम कब्ज व एसीडिटी आदि होते है।

Navratri-ssohm-health-tips

एक शोध में पाया गया कि व्रत या उपवास व्यक्ति को हर हफ्ते मं एक बार अवश्य करना चाहिए।

कई बार लोग यदि व्रत रख भी लेते हैं तो एक असमंजस उनके दिमाग में रहता है कि इस दौरान क्या खाया जाए।

 

तो आपको बता दूं कि यदि आप उपवास में फल खाना चाहे तो आप सेब, अंगूर, केला, चीकू, अमरूद, अनार आपके स्वास्थ्य के लिए लाभकारी सिद्ध हो सकते हैं।

लेकिन एक जरूरी सूचना सभी रीडर्स के लिए कि कमजोर और अशक्त व्यक्ति को उपवास नहीं करना चाहिए। इसके अलावा बच्चों, बुजुर्गों व गर्भवती महिला को भी उपवास नहीं करना चाहिए।

उपवास से तन, मन और चेतन के सभी विकार व दोष दूर होकर व्यक्ति को सम्पूर्ण स्वास्थय की प्राप्ति होती है।

तो अब आप भी ज्यादा ना सोचे और स्वस्थ रहने के लिए हफ्ते में एक दिन तो उपवास रखना शुरू कर ही दें।

healty-food-navrate-diet-fasting-tips-ssohm1

स्वास्थ्य से जुड़े किसी भी परापर्श के लिए SSOHM पर संपर्क करें या

फिर हमें 9266522522 पर कॉल कर सकते हैं।

About SSOHM

SSOHM is a health center established in 1990 by Dr. R.K Aggarwal for relieving all the sufferers in the world from there disease naturally. From last 23 years SSOHM is successfully providing homoeopathy treatment for all kind of diseases.. SSOHM periodically arrange free health campaigns for sufferers all over the India. Now we are also providing Free Online Consultation by a team of specialized doctors representing SSOHM in the web world.

Check Also

Know 5 Gallstones Prevention Diet and Prevention Methods

Know 5 Gallstones Prevention Diet and Prevention Methods

We are here to let you all know the best Gallstones Prevention Diet and methods. …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.